Gandhi ek vichar | Answer to admirers of Nathuram Godse

गांधी एक विचार है जो गोलियों और गालियों से नहीं मरते।

 

गांधी एक विचार है जो गोलियों और गालियों से नहीं मरते। # Mahatma Gandhi zindabad, #gandhi lives, #godse murdabad, Gandhi ki jai ho, Gandhi ek vichar

 
एक उत्तर उन तमाम गांधी के विरोधियों के लिए। आजकल Twitter पर अजीबोगरीब चर्चाएं trending रहती हैं। आज व्यक्ति भारत के पहले टेररिस्ट (first terrorist of India) नाथूराम गोडसे को नमन करता है। सामान्य व्यक्ति तो छोड़ ही दीजिए। अब नाथूराम गोडसे की शाख संभालने का बेड़ा कालीचरण बाबा जैसे लोगों ने भी उठा लिया है।

सच्चे मायनो यह हमें हिंदू धर्म नहीं सिखाता है। कल के दिन कोई कहने लगे कि रावण अच्छा और राम बुरे तो क्या हम सुन सकते हैं। अपितु नहीं। पर पता नहीं गांधी के विरोधी क्यों नाथूराम गोडसे के पक्ष में हैं। 

आजकल ट्विटर पर #Nathuram Godse zindabad जैसे भद्दे नारे प्रचलन में आ जाते हैं। पर नाथूराम गोडसे के पक्ष वालों को यह भूलना नहीं चाहिए कि गांधी एक विचार हैं, जो गोलियों और गालियों से नहीं मरते हैं।

यदि आपने आंख बंद करके नाथूराम गोडसे का पक्ष ले लिया है तो जरा आंख खोल कर पढ़े लिखे और विनम्र बन कर इतिहास की कुछ किताबें पढ़ लेना आवश्यक है।

गांधी जी हम सभी के दिल और दिमाग में जिंदा है और जिंदा ही रहेंगे।


टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट